Uncategorized

Woh !

आज से पांच वर्ष और पांच महीने पहले वह मेरे घर आयी थी.ऐसा नहीं कि वह मेरी पूर्व परिचित नहीं थी.उसके मेरे बीच अच्छा खासा स्नेह का आदान प्रदान था. उसकी और मेरी मुलाकात मेरी ससुराल में हुई थी.१९९४ कि जनवरी में मेरी सास को गर्भाशय का केंसर हुआ था और मेरे प्रवासी जेठ जेठानिया… Continue reading Woh !

Uncategorized

Bharat ka Bhagya !

क्या सच में देख सकेंगे हम चमचमाता ,विकसित स्मार्ट सिटीज वाला इंडिया उन वोटों की बदौलत ,जो कुल वोटों का 80% हैं वे वोट जिन्होंने हज़ारों उम्मीदों के साथ किसी को सौंपा  है  तख़्त – ओ – ताज उन उम्मीदों के साथ कि ख़त्म हो जाएगा भ्रष्टाचार का गन्दा खेल स्वच्छ भारत अभियान में आवश्यकता है… Continue reading Bharat ka Bhagya !